चाइनीज विवो कंपनी का सच आया सामने, ग्राहकों के साथ कर रही है ये बरा धोखा

चाइनीज मोबाइल कंपनी वीवो (VIVO) ने देश के ग्राहकों के साथ कैसे धोखा किया है, यह उस फरेब की कहानी है. वीवो ने ग्राहकों की प्राइवेसी का बंटाधार कर रखा है देश की आंतरिक सुरक्षा को तार-तार करते हुए देश के दुश्मनों को सुरक्षा दीवार में सेंध लगाने का मौका दे दिया है. ट्राई के नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए वीवो मोबाइल कंपनी ने हजारों मोबाइल्स फोन्स की आईएसईआई एक जैसी कर दी. मेरठ (Meerut) जोन के अपर महानिदेशक के आदेश पर हुई जांच में यह खुलासा हुआ है.




कैसे हुआ खुलासा :-
मेरठ जोन के अपर पुलिस महानिदेशक के आफिस के असिस्टेंट क्लर्क सब इंस्पेक्टर आशाराम का वीवो मोबाइल स्क्रीन टूटने से खराब हुआ तो उन्होंने मेरठ के दिल्ली रोड स्थित वीवो कंपनी के सर्विस सेंटर पर उसकी रिपेयरिंग कराई. फोन सही होकर लौटा तो उसमें एरर आने लगा. एक्सपर्ट को जब फोन चैक कराया तो पता चला कि वीवो मोबाइल फोन की आईएमईआई बदली जा चुकी है. मामले की शिकायत आला अफसरों से हुई तो एडीजी ऑफिस की साइबर क्राइम सेल ने वीवो कंपनी से जवाब मांगा. लेकिन कंपनी ने कोई जवाब नहीं दिया. मामले में टेलीकॉम कंपनी से हासिल डेटा से पता चला कि जो आईएमईआई सब- इंस्पेक्टर आशाराम के फोन में चल रही है, वह देश के 13357 अन्य फोन्स में भी संचालित है.


ऐसी तमाम खबर पढ़ने और वीडियो के माध्यम से देखने के लिए हमारे एप्प को अभी इनस्टॉल करे और हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे:-
  





आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 


Reactions