हरियाणा सरकार की अच्छी पहल मेडिकल के अंतिम वर्ष के छात्रों का लिए जाएगा सहयोग

पूरे देश में कोरोना संक्रमण का मामला कम होने का नाम ही नहीं ले रहा जहां एक तरफ महाराष्ट्र और दिल्ली में हर दिन हजारों की संख्या में संक्रमित पाए जा रहे हैं तो वहीं हरियाणा में कोरोना संक्रमण 10000 का आंकड़ा पार कर चुका है। इसी के मद्देनजर हरियाणा सरकार ने कोविड-19 प्रबंधन को प्रभावी बनाने के लिए 11 सरकारी तथा प्राइवेट मेडिकल कॉलेजेस में पढ़ रहे एमबीबीएस के अंतिम वर्ष के 1106 छात्रों को ड्यूटी पर लगाया है। आपको बता दें कि हरियाणा के चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान के महानिदेशक ने छात्रों को संबंधित जिलों के सिविल सर्जनों को सोमवार को रिपोर्ट करने को कहा है जिसने यह छात्र सोमवार तक अपने अपने जिले के सिविल सर्जनों को कांटेक्ट करेंगे।



विस्तार से पढ़े :-
हरियाणा सरकार ने कोविड-19 प्रबंधन को प्रभावी बनाने के लिए 11 सरकारी और निजी मेडिकल कॉलेजों में पढ़ रहे एमबीबीएस फाइनल ईयर के 1,106 छात्रों की ड्यूटी लगाई है। हरियाणा के चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान के महानिदेशक ने छात्रों को संबंधित ज़िलों के सिविल सर्जनों को सोमवार को रिपोर्ट करने को कहा। हरियाणा में कोविड-19 के 10,635 मामले आए हैं।

कोविद -19 मामलों में वृद्धि के बीच, हरियाणा सरकार ने सभी अंतिम वर्ष के एमबीबीएस छात्रों को स्वास्थ्य विभाग के साथ प्रतिनियुक्त करने का निर्णय लिया है।   कोरोनोवायरस बीमारी के मामलों की संख्या शनिवार को हरियाणा में 10,000 के पार हो गई। सरकार का कहना है कि इस कदम का उद्देश्य महामारी के प्रभावी प्रबंधन के लिए उपलब्ध मानव संसाधनों को तैयार करना है।  राज्य के सभी सरकारी और निजी मेडिकल कॉलेजों के 1,106 अंतिम वर्ष (भाग -1) के छात्रों को 22 जून तक संबंधित सिविल सर्जनों को रिपोर्ट करने के लिए कहा गया है।



जारी निर्देश के अनुसार क्या कहा गया है :-
भारत सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के अनुसार 19 जून को सभी मेडिकल कॉलेजों और सिविल सर्जनों के प्रिंसिपलों को राज्य चिकित्सा शिक्षा और अनुसंधान विभाग के निदेशक द्वारा लिखे गए एक पत्र का उल्लेख है कि मेडिकल कॉलेजों और सिविल सर्जनों के निदेशक एमबीबीएस छात्रों को कोविद -19 के प्रभावी व्यवहार और प्रबंधन के लिए सभी आवश्यक प्रशिक्षण प्रदान करना सुनिश्चित करेंगे।   “ अंतिम वर्ष  (भाग -2) एमबीबीएस छात्रों को केवल संबंधित मेडिकल कॉलेजों में प्रशिक्षित किया जाएगा।

“डब्ल्यूएचओ ने कोविद -19 महामारी को अंतरराष्ट्रीय चिंता का सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातकाल घोषित किया है।  राज्य में सकारात्मक मामलों की संख्या में हाल ही में वृद्धि हुई है।  सरकार मामलों को प्रभावी ढंग से प्रबंधित करने के लिए अतिरिक्त स्वास्थ्य देखभाल सुविधाएं बनाने की प्रक्रिया में है और तदनुसार, अतिरिक्त जनशक्ति की आवश्यकता है। इसके अलावा, 312 नियमित डॉक्टरों और 206 आयुष चिकित्सा अधिकारियों की भर्ती की गई है।  अधिकारियों ने कहा कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने 419 आयुष चिकित्सकों और 419 आयुष फार्मासिस्टों के पदों के सृजन को भी मंजूरी दी है।



ऐसी तमाम खबर पढ़ने और वीडियो के माध्यम से देखने के लिए हमारे एप्प को अभी इनस्टॉल करे और हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे:-
  





आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 


Reactions