कोरोना की महामारी की लड़ाई में वर्ल्ड लीडर्स को पछाड़ते हुए नरेंद्र मोदी को मिला पहला स्थान

कोरोना वायरस अभी पूरी दुनिया के लिए सर दर्द बना हुआ है, इस बीमारी से निजात पाने के लिए हर एक देश के नेता, मंत्री, लोग अपने अपने स्तर पर कोशिश कर रहे हैं कि इस बीमारी को किसी भी तरह से हराया जाए। हमारे देश भारत में भी इस बीमारी को खत्म करने के लिए हर एक व्यक्ति अपने स्तर पर अपना योगदान दे रहा है। कोरोना वायरस महामारी को कंट्रोल में करने में सबसे ऊपर अगर किसी का नाम आ रहा है तो वह है  हमारे देश के प्रधानमंत्री आदरणीय नरेंद्र मोदी जी।जी हां दोस्तों आपने सही सुना वर्ल्ड लीडर्स को पछाड़ते हुए नरेंद्र मोदी ने पहला स्थान इस मामले में पाया है।



नेताओं पर लोगों के विश्वास के आधार पर दी गई रेटिंग:-
अमेरिका की ग्लोबल डाटा इंटेलिजेंस कंपनी मॉर्निंग कंसल्ट पॉलिटिकल इंटेलिजेंस ने एक रेटिंग जारी की है, यह रेटिंग कोरोना वायरस के बीमारी के बीच दुनिया भर के नेताओं के काम करने की तरीके और क्षमता और उन पर लोगों के विश्वास को ध्यान रखते हुए जारी की गई है।इस रेटिंग में अप्रूवल प्वॉइंट्स के साथ अलग-अलग नेताओं को जनता के बीच उनकी लोकप्रियता तथा भरोसे के आधार पर स्थान दिया गया है।अगर भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बात करें तो उनको 68 अप्रूवल पॉइंट्स के साथ पहले स्थान पर रखा गया है जबकि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को -3 अप्रूवल  पॉइंट्स के साथ आठवें स्थान पर रखा गया है। इस रेटिंग के लिए 1 जनवरी 2020 से 14 अप्रैल 2020 तक लोगों से दुनिया के दूसरे नेताओं से संबंधित सवाल पूछे गए।


1 जनवरी से 14 अप्रैल तक हर रोज 447 लोगो के हुए इंटरव्यू:-
अप्रूवल रेटिंग देने के लिए  हर रोज औसतन 447 लोगों के इंटरव्यू लिए गए। इस लिस्ट में दूसरे नंबर पर मैक्सिको के राष्ट्रपति एंद्रेस मैनुएल लोपेज़ ओब्रादोर है,  तीसरे नंबर पर ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन हैं, वहीं इस लिस्ट में ट्रंप को आठवां स्थान मिला है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रेटिंग में सुधार की वजह कोरोना वायरस से निपटने को लेकर उनकी तैयारी तथा फैसले लेने की क्षमता है। अगर भारत की तुलना अन्य देशों से करें तो भारत में एयरपोर्ट पर स्क्रीनिंग की व्यवस्था अन्य देशों से पहले शुरू कर दी थी। चीन में कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए वहां फंसे भारतीय छात्रों को समय रहते भारतीय सरकार ने एयरलिफ्ट कर लिया था। जब यह बीमारी अन्य देशों में फैली उसके बाद भी समय रहते सरकार ने अपने लोगों को एअरलिफ्ट किया ही  साथ ही पड़ोसी देशों के फंसे नागरिकों को भी एअरलिफ्ट किया गया था।


समय रहते ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लिए कड़े फैसले :-
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने समय रहते ही भारत में 25 मार्च को लॉक डाउन की घोषणा कर दी थी, जिसे 14 अप्रैल तक लागू किया गया, फिर बाद में इसके असर को देखते हुए इस लॉक डाउन को 19 दिनों तक एक्स्ट्रा बढ़ा दिया गया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुनिया भर के नेताओं को इस महामारी से निपटने के लिए एकजुट करने की भी कोशिश की। सार्क देशों की जो बैठक इस बीमारी के कारण स्थगित होने वाली थी उसको वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सफल बनाया, साथ ही जी-20 देशों की बैठक कराने के लिए भी नरेंद्र मोदी ने ही पहल की थी। इसके अलावा जब पूरी दुनिया इस महामारी से निपटने के लिए अपने अपने लोगों के बारे में सोच रही थी तब ऐसे समय में भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सबसे आगे आकर अमेरिका समेत दुनिया भर के देशों की दवाइयों से निर्यात से प्रतिबंध हटाते हुए मदद की पहल की जिसे दुनिया भर के देशों ने स्वीकारा तथा सराहा। ऐसे अनगिनत कारण है जो भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को वर्ल्ड लीडर में पहले स्थान पर रखती है।


ऐसी तमाम खबर पढ़ने और वीडियो के माध्यम से देखने के लिए हमारे एप्प को अभी इनस्टॉल करे और हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे:-
  





आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 


Reactions