• ताज़ा खबर

    संसद सत्र शुरू होते ही साफ हो गया कि अमित शाह नहीं ये नेता है ‘सदन में नंबर दो :




    नमस्कार दोस्तों आप सबका स्वागत है भारत आइडिया के इस  नए संस्करण के समाचार लेख में। भारत आइडिया के पाठकों आज इस लेख में हम राजनाथ सिंह के ऊपर चर्चा करने वाले है की आखिर राजनाथ सिंह का बीजेपी में क्या स्थान है और कौन है नंबर दो नेता बीजेपी में। 

    समाचार पढ़ने से पहले एक गुजारिस है, हमारे फेसबुक पेज को  लाइक कर हमारे साथ जुड़े। 


    आखिर कौन है बीजेपी में नंबर दो  मोदी सरकार-2 के शपथ समारोह में अमित शाह को गृह मंत्रालय दिए जाने पर बहस तेज हो गई थी कि पिछली सरकार में गृहमंत्री और नंबर दो पर रहे राजनाथ सिंह का पद घटा दिया गया है। बहस इस बात को लेकर भी तेज थी कि आखिर मोदी सरकार-2 में नंबर दो पर होगा कौन?वैसे गृह मंत्रालय अमित शाह के पास जाने के बाद उन्हें ही सरकार में नंबर-2 पर माना जा रहा था लेकिन 17 जून को 17वीं लोकसभा का पहला संसद सत्र शुरू हुआ तो ये बात साफ हुई कि इस सरकार में नंबर दो पर अमित शाह नहीं बल्कि राजनाथ सिंह ही हैं। बता दें कि राजनाथ सिंह मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में भी सदन में नंंबर दो के नेता थे।


    दरअसल इस सरकार में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह लोकसभा में भारतीय जनता पार्टी के उपनेता भी हैं और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सदन के नेता हैं। जिसका सीधा मतलब हुआ कि राजनाथ सिंह का कद सदन में नंबर दो का है। इसी वजह से संसद सत्र के पहले दिन राजनाथ सिंह पीएम नरेंद्र मोदी के ठीक बगल में बैठे दिखे। पिछले सदन में भी वह पीएम मोदी के साथ ही बैठे थे।



    अमित शाह का स्थान राजनाथ सिंह के बगल में 
    वहीं अमित शाह राजनाथ सिंह के बगल उस सीट पर बैठे जिस सीट पर पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज बैठा करती थीं। वहीं उनके बगल और भाजपा के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवानी की सीट पर थावरचंद गहलोत बैठे दिखाई दिए।इन सभी सीटों के अलावा थावरचंद गहलोत के बाद नितिन गडकरी, सदानंद गौड़ा, फिर रविशंकर प्रसाद, नरेंद्र सिंह तोमर और हरसिमरत कौर पहली ही पंक्ति में दिखे। उनके बाद रामविलास पासवान भी दिखे, हालांकि वह इस बार लोकसभा सांसद नहीं हैं। लेकिन मंत्री होने के नाते वह सदन में दिखे। आपको बता दें कि सदन में सीट मंत्री पद में वरिष्ठता या फिर कितनी बार जीत दर्ज कर वे आए, इस आधार पर मिलती आई है।

    गौरतलब है कि इस बार सदन में कई दिग्गज नेता और पुराने सांसद नहीं दिख रहे हैं, जिनमें लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, सुषमा स्वराज, मल्लिकार्जुन खड़गे, ज्योतिरादित्य सिंधिया जैसे बड़े नाम शामिल हैं।



    आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे।