राजस्थान प्रशासनिक सेवा परीक्षा यानी (RAS Exam) में शिक्षा मंत्री और कांग्रेस नेता गोविंद सिंह डोटासरा के रिश्तेदारों के चयन पर बवाल मचा हुआ है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि डोटासरा के दोनों रिश्तेदारों के इंटरव्यू में 100 में से 80 अंक मिले हैं जबकि इसी एग्जाम में टॉपर को इंटरव्यू में मात्र 77 अंक मिले हैं जिसके बाद बीजेपी ने इस मामले में शिक्षा मंत्री की भूमिका पर सवाल खड़े करते हुए मामले की जांच की मांग उठाई है।


इस मामले में 23 लाख रुपए के घुस का भी भंडाफोड़ हुआ था :
आपको बता दें कि डोटासरा की बहू प्रतिभा के भाई गौरव और बहन प्रभा के चयन पर बवाल मचा हुआ है जिसमें इन दोनों को 100 में से 80-80 अंक आए हैं और यह दोनों 80 या 80  से अधिक अंक पाने वालों के 6 लोगो मे शामिल है। ये परीक्षा नतीजों से पहले से ही विवादों में आ गई थी। एंटी करप्सन ब्यूरो ने नतीजों से पहले इस परीक्षा मे इंटरव्यू में अच्छे नंबर दिलाने के नाम पर 23 लाख की घूस के मामले का भंडाफोड़ किया है। वही डोटासरा का इस मामले पर कहना है कि 300 से ज्यादा बच्चों को इंटरव्यू में 75 से 80 अंक मिले हैं। अगर बच्चे प्रतिभावान हैं तो इसमें मेरा क्या दोष।

डोटासरा के रिश्तेदारों को लिखित में 50 प्रतिशत अंक भी नहीं हासिल हुए थे :
अजीब इत्तेफाक तो  यह है को आरएएस 2016 के इंटरव्यू में डोटासरा के बेटे को 85 व बहू को 80 नंबर और आरएएस 2018 में बहू के भाई-बहन को 80-80 नंबर मिले साथ ही साथ इन चारों को लिखित परीक्षा में 50 प्रतिशत अंक भी हासिल नहीं हुए थे, सिर्फ डोटासरा की बहु को 800 में से 402 अंक हासिल हुए थे।  ये महज कोई संजोग हो ऐसा कहना मुश्किल है। नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया का कहना है कि हैरानी है कि इस परीक्षा में टॉपर रही मुक्ता राव को इंटरव्यू में इनसे कम यानी 77 अंक ही मिले.