भारत में हर वर्ष कहीं ना कहीं किसी ना किसी जगह पर नेताओं द्वारा अलग-अलग तरह के घोटाले किए जाते रहे हैं। किंतु बिहार एक ऐसा राज्य है जहां पर  नेता कभी चारा घोटाला तो कभी मिट्टी घोटाला कर जाते हैं। अब इसी कड़ी में बिहार में कोरोना वायरस के दूसरे लहर  के बीच मौत का घोटाला सामने आया है जिस पर राजद पार्टी के सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने तीखी टिप्पणी की है, आइए विस्तार से जानते हैं क्या है खबर।

आपकी जानकारी के लिए बता दे की कोरोना वायरस की दूसरी लहर के बीच कोरोना महामारी के कारण हुई करीब 4000 मौतों को अब बिहार सरकार द्वारा ऑडिट के बाद रिकॉर्ड में शामिल कर लिया गया है, जिस पर राजनीतिक गलियारों में घमासान छिड़ गया है। पक्ष और प्रतिपक्ष दोनों एक दूसरे पर इल्जाम लगाते फिर रहे हैं । आपको याद होगा कि बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव जिन्होंने चारा घोटाला करते हुए राजनीतिक दुनिया में घोटालों का रिकॉर्ड बनाते हुए अपना नाम स्थापित किया था उन्होंने अब मौत के घोटाले पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर निशाना साधा है।

लालू यादव ने अपने ही अंदाज में ट्वीट किया और उन्होंने लिखा कि बन आंकड़ों का दर्ज़ी, घटा-बढ़ा दिया मनमर्ज़ी, फर्ज भुला नीतीश बने फ़र्जी, अपार हुई जग हंसाई.. फिर भी शर्म ना आई’’ लालू प्रसाद यादव ही नहीं बल्कि मिट्टी घोटाले में अपना रिकॉर्ड नाम दर्ज करवा चुके लालू प्रसाद यादव के बेटे तेजस्वी यादव और तेज प्रताप यादव ने भी नीतीश कुमार पर तीखे वार किए।

जानकारी के लिए बता दें कि बिहार सरकार ने कोरोना वायरस से हुई तमाम मौतों का बिहार में ऑडिट करवाया था जिसके बाद सरकार द्वारा अब यह नया आंकड़ा जारी किया गया है बीते दिन तक बिहार में कोरोना वायरस के संक्रमण से तकरीबन साढे 5000 लोगों ने अपनी जान गवाई थी लेकिन ऑडिट के बाद इन आंकड़ों में 4000 नए आंकड़े जोड़े गए हैं जिसके बाद अब मौतों की संख्या 9000 पार कर चुकी है।