तुर्की में हिंदी धारावाहिक साथ निभाना साथिया को लेकर छिड़ा विवाद जाने कारण

आप सब ने हिंदी धारावाहिक साथ निभाना साथिया के बारे में जरूर सुना होगा, ये हिंदी धारावाहिक काफी मशहूर धारावाहिक है. आपको बता दें कि यह हिंदी धारावाहिक तुर्की में भी प्रसारित किया जाता है. इस शो को तुर्की में तुर्की भाषा में मासूम नाम से प्रसारित किया जाता है. रिपोर्ट्स की माने तो तुर्की में कई सफल हिंदी धारावाहिक कार्यक्रमों को वहां की क्षेत्रीय भाषा में प्रसारित किया जाता है और यह प्रसारण वहां की जनता में काफी मशहूर भी है. आपको बता दें कि तुर्की में प्रसारित कार्यक्रमों के दौरान कार्यक्रमों में हिंदू धार्मिक चिन्हों और मूर्तियों को धुंधला करके दिखाया जाता है. जिससे तुर्की की इस्लामीकरण करने की लगातार कोशिश की जा रही है. जिससे यह साफ तौर पर पता चलता है कि तुर्की में कट्टरवाद का कैसा असर है और तुर्की ब्रॉडकास्ट कभी भी भारतीय परंपराओं और संस्कृति तो बिल्कुल नहीं समझ सकता.



 

क्या है विवाद ?-
अभी के खबर के अनुसार इस शो को लेकर एक विवाद खड़ा हो गया है, अगर मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो कार्यक्रम के दौरान साथ निभाना साथिया के छोटे हिस्से में राधा कृष्ण नजर आते हैं, तुर्की में उसी धारावाहिक के दौरान राधा कृष्ण के सीन को धुंधला करके दिखाया गया. जब यह खबर सोशल मीडिया पर आई तो लोग आग बबूला हो गए और कई सोशल मीडिया यूजर्स ने इस पर आपत्ति भी जताई. आप नीचे शेयर किए गए तस्वीर में साफ देख सकते हैं की, अभिनेत्री के पीछे एक मंदिर है और उसमें राधा और कृष्ण की मूर्ति रखी हुई है. जिसे पूरी तरह से धुंधला कर दिया गया है.

आपको बता दें कि यह सिर्फ इसलिए किया गया क्योंकि इस्लामिक कट्टरपंथियों की भावनाएं आहत ना हो और शायद एक और यह भी वजह हो सकती है कि इसे इस्लाम के मुताबिक हराम माना जाता हो.



तुर्की में कोशिश हो रही है पूरी तरीके से इस्लामीकरण की कोशिश:-
आपको बता दें कि तुर्की ब्रॉडकास्टर्स बहुत पहले से ही लगातार हिंदी कार्यक्रमों का इस्लामीकरण करने पर तुले हुए हैं. अब मनमानी यहां तक पहुंच गई है कि उन्होंने इन हिंदी धारावाहिक कार्यक्रम के प्रतीक चिन्हों को धुंधला करके दिखाना शुरू कर दिया है. तुर्की में इस्लामीकरण का इन घटिया हरकतों द्वारा पूरा प्रयास किया जा रहा है. इन हिन्दी धारावाहिकों को इस्लाम के अनुरूप दिखाने के लिए कार्यक्रम के दौरान जितने भी गैर इस्लामी प्रतीक चिन्ह दिखाए जाते हैं उन्हें धुँधला कर दिया जाता है.

यह दृश्य  हिन्दी धारावाहिक ‘साथ निभाना साथिया’ का है जिसे तुर्की भाषा में अनुवाद के बाद ‘मासूम’ नाम दिया गया। इस कार्यक्रम का प्रसारण कनाल 7 (kanal 7) नाम के चैनल पर हुआ था. इस तस्वीर में साफ तौर पर देखा जा सकता है कि कैसे राधा और कृष्ण की मूर्ति वाले हिस्से को धुँधला किया गया है. इस्लामी कट्टरपंथियों को खुश करने की होड़ में तुर्की ब्रॉडकास्टर हिन्दू भावनाओं का संज्ञान लेना भूल ही गया. इस हरकत के ज़रिए इन्होंने गैर इस्लामी संस्कृति के प्रति प्रबल असहिष्णु भावना का प्रदर्शन किया है.


ऐसी तमाम खबर पढ़ने और वीडियो के माध्यम से देखने के लिए हमारे पेज को अभी लाइक करे,कृपया पेज लाईक जरुर करे :- 




आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 


Reactions