• ताज़ा खबर

    साक्षी-अजितेश प्रेम विवाह: चौंकाने वाले खुलासे शादी से पांच दिन पहले इन दो नेताओं ने लिखी स्क्रिप्ट




    नमस्कार दोस्तों आप सबका स्वागत है भारत आइडिया के इस  नए संस्करण के समाचार लेख में। भारत आइडिया के पाठकों आज इस लेख में हम बात करेंगे बात करेंगे  साक्षी मिश्रा और अजितेश की शादी के बारे में जो स्क्रिप्टेड थी । भाजपा विधायक राजेश मिश्रा उर्फ पप्पू भरतौल की बेटी साक्षी मिश्रा और अजितेश की शादी को लेकर अब तक का सबसे बड़ा खुलासा हुआ है। अब सामने आया है कि यह मामला घर से भागकर प्रेम विवाह करने के साधारण मामले से ज्यादा कहीं पप्पू भरतौल को सबक सिखाने का था।  इस खेल में पप्पू भरतौल के करीबी  दिग्गज नेताओं ने ही पूरे मामले की स्क्रिप्ट तैयार की। 

    समाचार पढ़ने से पहले एक गुजारिस , हमारे फेसबुक पेज को  लाइक कर हमारे साथ जुड़े। 



    पार्टी के जिन दो दिग्गज नेताओं का नाम इस साजिश को लेकर चर्चा में है, बताया जा रहा है कि 28 जून को उन्होंने ही अजितेश और गौरव के साथ बरेली में ही बैठकर पूरी योजना तैयार कराई थी। इसी बैठक के दौरान इलाहाबाद हाईकोर्ट के एक वकील से फोन पर बात की गई थी। वकील की सलाह पर ही वीडियो वायरल कराए गए और फिर साक्षी और अजितेश टीवी चैनलों के दफ्तर भी पहुंचे। सूत्रों के मुताबिक पप्पू भरतौल को अपना बिंदास और बेधड़क अंदाज ही भारी पड़ा। इसी वजह से उनके नजदीकी रहे लोग उन्हें नीचा दिखाने में जुट गए। 


    पार्टी के जिन दो दिग्गजों का नाम इस प्रकरण में उछल रहा है, उनमें से एक विधानसभा चुनाव के बाद से ही काफी नजदीकी रहा था लेकिन फिर धीरे-धीरे दूरियां बढ़ गईं। दूसरे दिग्गज नेता भी एक प्रकरण में विवादित होने के बाद पप्पू भरतौल के खिलाफ हो गए। भरतौल को सबक सिखाने के लिए यही वजह साजिश की बुनियाद बनी। बताया जाता है कि अजितेश का भरतौल के घर आना-जाना था। भरतौल के बेटे विक्की का अजितेश पर काफी विश्वास था, इसी कारण वह साक्षी के काम भी अजितेश के सुपुर्द कर देता था। 





    इसी के चलते साक्षी और अजितेश के बीच नजदीकियां बढ़ गई थीं। हालांकि परिवार के लोग इसे भाई-बहन के संबंध के ही नजरिये से देखते थे। अजितेश दिग्गज नेताओं के संपर्क में भी था। उसके साक्षी से नजदीकी संबंधों की जानकारी भी उन्हें थी। इसी के चलते 28 जून को साथ बैठकर अजितेश और साक्षी की शादी कराने की योजना बनाई गई। इस दौरान इलाहाबाद में प्रैक्टिस करने वाले एक वकील से फोन पर बात कर सारा मामला सेट किया गया। 

    विधायक परिवार के सूत्रों के मुताबिक मूल रूप से कांधरपुर का रहने वाला यह वकील घर से भागकर हाईकोर्ट पहुंचने वाले जोड़ों के ही ज्यादातर केस देखता है, उनके लिए रहने-खाने के साथ कानूनी दायरे से बाहर बाकी दाव-पेच में भी मदद करता है। बताया जाता है कि इसी वकील की सलाह पर साक्षी का वीडियो तैयार कराकर वायरल किया, फिर दोनों को चैनलों के दफ्तर भी भेजा गया ताकि विधायक को बैकफुट पर लाने के साथ उनको नीचा दिखाया जा सके। 



    आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे।