सुभाषचन्द्र बोस की जयंती पर राहुल ने कि ऐसी हरकत की अब हो रही है माफी कि मांग, पढ़े पूरी खबर ।


क्या है खबर ?..
नेताजी सुभाष चंद्र बोस के परिवार ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से उनके एक ट्वीट को लेकर तत्काल माफी की मांग की है. नेताजी की 122वीं जयंती के अवसर पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक ट्वीट किया था, जिसको लेकर विवाद शुरू हो गया.नेताजी को अपनी श्रद्धांजलि देते हुए राहुल गांधी ने ट्विटर बुधवार को एक फोटो शेयर की थी, जिसमें सुभाष चंद्र बोस की मृत्यु की तिथि 18 अगस्त, 1945 दर्शाई गई है. बोस परिवार इससे खासा नाराज है. असल में बोस परिवार दशकों से इस बात को चुनौती देता रहा है कि नेताजी की मौत उक्त दिन कथित विमान दुर्घटना में हुई थी.बुधवार को राहुल गांधी ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती पर उन्हें नमन किया. राहुल ने ट्वीट कर कहा, 'नेताजी सुभाष चंद्र बोस जी की जयंती पर उन्हें शत् शत् नमन.


विवाद के बाद राहुल को अपनी ट्वीट हटानी पड़ी :
महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी नेताजी सुभाष चंद्र बोस का जन्म 23 जनवरी 1897 को उड़ीसा के कटक में हुआ था. लेकिन उनकी मृत्यु की तिथि को लेकर विवाद है.राहुल गांधी से तत्काल यह ट्वीट हटाने की मांग करते हुए नेताजी के पड़पोते और बंगाल बीजेपी के नेता चंद्र बोस ने इसे जानबूझकर इतिहास से छेड़छाड़ की कोशिश बताया. उन्होंने आजतक से कहा, 'उन्हें तत्काल यह ट्वीट हटा लेना चाहिए. भारतीय इतिहास की उनकी जानकारी सीमित है. उन्हें अविभाजित भारत के पहले प्रधानमंत्री को अपमानित करने का कोई अधिकार नहीं है. इस बात का लेशमात्र भी साक्ष्य नहीं है कि नेताजी का निधन 18 अगस्त, 1945 को एक विमान दुर्घटना में हुआ. आखिर उन्होंने किस आधार पर यह ट्वीट किया?


तथ्यों को नष्ट करने का आरोप है कांग्रेस पर :
यह आरोप लगाते हुए कि नेताजी से जुड़ी कई महत्वपूर्ण फाइलों को कांग्रेस ने नष्ट कर दिया है, बोस ने कहा, 'साल 1972 में जस्ट‍िस मुखर्जी कमीशन की रिपोर्ट में साफतौर से यह बताया गया है कि प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के निर्देश पर चार महत्वपूर्ण फाइलों को नष्ट कर दिया गया है. हम नहीं जानते कि पिछले 70 साल में ऐसी कितनी फाइलें नष्ट की गई हैं.

Reactions