Engहिंदी

Get App

हम राजनीती एवं इतिहास का एक अभूतपूर्व मिश्रण हैं.हम अपने धर्म की ऐतिहासिक तर्क-वितर्क की परंपरा को परिपुष्ट रखना चाहते हैं.हम विविध क्षेत्रों,व्यवसायों,सोंच और विचारों से हो सकते हैं,किन्तु अपनी संस्कृति की रक्षा,प्रवर्तन एवं कृतार्थ हेतु हमारा लगन और उत्साह हमें एकजुट बनाये रखता है.हम आपके विचारों के प्रतिबिंब हैं,आपकी अभिव्यक्ति के स्वर हैं,हम आपको निमंत्रित करते हैं,अपने मंच 'BharatIdea' पर,सारे संसार तक अपना निनाद पहुंचायें.

वायुसेना प्रमुख का राफेल डील पर ये बयान आपको जरुर जानना चाहिए .

नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका भारत आईडिया में तो दोस्तों आज हम बात करने वाले हैं वायु सेना प्रमुख बी इस धनोवा  के बारे में जिन्होंने राफेल डील को लेकर के एक बहुत बड़ा बयान दिया है तो आइए जानते हैं क्या कहा उन्होंने.



क्या है मामला :
वायुसेना प्रमुख बी एस धनोआ ने बुधवार को राफेल को पासा पलटने वाला बताया और कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने फ्रांस के साथ हुए इस सैन्य विमान सौदे के खिलाफ दायर की गयी याचिकाओं पर ‘बहुत अच्छा फैसला’ दिया है. उन्होंने रक्षा खरीद के राजनीतिकरण के विरुद्ध सावधान किया और कहा कि पहले इसी की वजह से सेना को बोफोर्स तोप हासिल करने में देरी हुई थी.उन्होंने कहा कि मैं फैसले पर कुछ नहीं कहने जा रहा हूं लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने बहुत अच्छा फैसला दिया है.कोर्ट ने यह भी कहा कि इस विमान की सख्त जरुरत है. धनोआ ने कहा कि जहां तक टेक्नॉलोजी की बात है तो राफेल विमान के खिलाफ कोई तर्क नहीं है.


क्या कहा वायुसेना प्रमुख ने :
रुस के साथ संयुक्त सैन्याभ्यास के मौके पर उनका बयान ऐेसे समय में आया है जब महज कुछ दिन पहले सुप्रीम कोर्ट ने राफेल सौदे की जांच की मांग संबंधी याचिकाएं खारिज कर दीं. कांग्रेस ने 36 राफेल विमानों के इस सौदे में अनियमितता का आरोप लगाया है और दावा किया है कि यह सरकार उस दाम से बहुत ऊंचे मूल्य पर ये विमान खरीद रही है जिस पर पिछली सरकार बातचीत कर रही थी.धनोआ ने कहा कि वायुसेना ने यह पक्का किया है कि विमान में श्रेष्ठ (युद्धक) प्रणालियां हों. उन्होंने कहा कि योजनाबद्ध खरीद में पहले ही काफी लंबा वक्त लग चुका है और इस दौरान भारत के पड़ोसियों ने अपना रक्षा आयुध भंडार उन्नत कर लिया. उन्होंने कहा कि हमारे रणनीतिक परिदृश्य के मद्देनजर हमें इसकी जरुरत है. वह सरकार के इस कथन का समर्थन करते हुए जान पड़े कि विभिन्न हथियारों से लैस विमान के मूल्य विवरण का खुलासा होने से प्रतिद्वंद्वी उसकी क्षमता जान लेंगे.


करदाताओं का हक है रफाएल के बारे में जानना :
वायुसेना प्रमुख ने कहा कि करदाताओं को यह जानने का हक है कि उनका पैसा कहां जाता है लेकिन नियंत्रक और महालेखा परीक्षक (कैग) यह सुनिश्चित करने के लिए हैं कि इसका सही ढंग से इस्तेमाल हो.

Breaking News
Loading...
Scroll To Top