Engहिंदी

Get App

हम राजनीती एवं इतिहास का एक अभूतपूर्व मिश्रण हैं.हम अपने धर्म की ऐतिहासिक तर्क-वितर्क की परंपरा को परिपुष्ट रखना चाहते हैं.हम विविध क्षेत्रों,व्यवसायों,सोंच और विचारों से हो सकते हैं,किन्तु अपनी संस्कृति की रक्षा,प्रवर्तन एवं कृतार्थ हेतु हमारा लगन और उत्साह हमें एकजुट बनाये रखता है.हम आपके विचारों के प्रतिबिंब हैं,आपकी अभिव्यक्ति के स्वर हैं,हम आपको निमंत्रित करते हैं,अपने मंच 'BharatIdea' पर,सारे संसार तक अपना निनाद पहुंचायें.

यह बस सेवा 13 नवंबर को पीओके होकर पाकिस्तान के लाहौर और चीन के काशगर के बीच शुरू की जाएगी


नमस्कार दोस्तों आप सभी का स्वागत है भारत आइडिया में, आज हम बात करने जा रहे हैं रिपोर्ट के अनुसार चीन और पाकिस्तान के बीच पीओके से होकर गुजरने वाले बस सर्विस के बारे।

यह बस सेवा 13 नवंबर को पीओके होकर पाकिस्तान के लाहौर और चीन के काशगर के बीच शुरू की जाएगी

चीन और पाकिस्तान के बीच पीओके से होकर गुजरने वाले बस सर्विस का भारत में बुधवार को पुरजोर विरोध किया गया। बस सेवा के अंतर्गत पीओके से होकर शुरू की जानी प्रस्तावित है।

आखिर क्या करना है विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता का:
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि या भारत की संप्रभुता का उल्लंघन है ,रिपोर्ट के अनुसार यह बस सेवा 13 नवंबर को पीओके होकर पाकिस्तान के लाहौर और चीन के काशगर के बीच शुरू की जाएगी।उन्होंने कहा कि चीन और पाकिस्तान के बीच 1963 में तथाकथित बाउंड्री एग्रीमेंट को भारत ने अवैधानिक ही है, इसलिए पीओके से होकर गुजरने वाली कोई भी बस सर्विस भारत की संप्रभुता एवं क्षेत्रीय अखंडता का उल्लंघन है।



आखिर क्या फायदा है यह बस सेवा का: 
गौरतलब है कि 50 मिलियन डॉलर भागी सीपीईसी की शुरुआत 2015 में हुई थी। सीपीईसी के माध्यम से चीन के संसाधन वाले शिनजियांग प्रांत को पाकिस्तान के ग्वाडार से जोड़ना है।

संपादक:आशुतोष उपाध्याय

Breaking News
Loading...
Scroll To Top