महज 5 हजार रुपये में बना देते थे भारतीय नागरिकता के कागजात पढ़े पूरी खबर

पढ़े 3 बांग्लादेशी अवैध तरीके से गाजियाबाद में रह रहे थे और अवैध तरीके से महज 5 हजार रुपये में रोहंगिया, पाकिस्तानियो और बांग्लादेशियो को भारतीयता  नागरिकता दिलवाते थे पढ़े पूरी खबर :




आलम शेख जोकि खुद एक अवैध बांग्लादेशी था और दिल्ली से सटे गाजियाबाद में रहता था।  ये तो खुद ही देश को तबाह कर ही रहा था साथ ही साथ अपने जैसे और भी अक्रान्ताओ को तैयार कर रहा था। चाहे रोहंगिया हो या बांग्लादेशी या फिर पाकिस्तानी, ये सिर्फ 5 हजार रुपये में अवैध कागजात तैयार करके भारतीय बना देता था खबर के मुताबित, उत्तरप्रदेश की गाजियाबाद पुलिस की मुस्तैदी के चलते बुधवार को देश को तबाह कर रहे इस गैंग का पर्दाफास किया गया।

देखे कैसे मिल रहे है कांग्रेस और पाकिस्तान के नेता एक दूसरे से गुपचुप तरीके से

बतादे की गाजियाबाद में लम्बे समय से रह  बांग्लादेशियो को गिरफ्तार किया गया है।  इन तीनो के पास से भारतीय नागरिकता के कई अवैध दस्तावेज बरामद किये गए है। इसमें से एक बांग्लादेशी का तो खुद का अपना घर भी है जिसमे ये अवैध तरीके के कागजात तैयार करवाता था भारतीय नागरिक्ता दिलवाने के लिए। पुलिस की पूछताछ के बाद पता चला की ये तीनो बंगलादेश के है और अवैध तरीके से बंगाल के रास्ते से भारत में घुसे थे और कुछ वर्षो से दिल्ली के सटे गाजियाबाद के बिसरख इलाके में रह रहे थे। इनलोगो ने लगभग 50 से अधिक अवैध लोगो को भारत की नागरिक्ता दी है अब उनके बारे में पुलिस छानबीन कर रही है। इनलोगो का भंडा तब फूटा जब ये लोग बस स्टैंड में आपस में बात कर रहे थे तभी एक पुलिस के मुखबिर ने इनकी बातो को सुन लिया और पुलिस को जानकारी दे दी जिसके बाद पुलिस ने इनको धर दबोचा।

2019 से पहले बढ़ी पीएम मोदी की मुश्किलें, सबसे पुरानी सहयोगी पार्टी ने खोला मोर्चा

कविनगर थाना प्रभारी प्रदीप त्रिपाठी ने बताया की गिरफ्तार किये गए लोगो से पूछताछ में पता चला है की ये तीनो बांग्लादेशी है और अवैध तरीके से पाकिस्तानियो, रोहंगिया और बांग्लादेशियो को भारत की नागरिकता के कागज बना के देते थे वो भी महज 5 हजार रुपये में। उन्होंने बताया की गिरफ्तार लोगो के नाम आलम शेख, नजरुल इस्माइल इमाम हुसैन है। इनके पास से कई फर्जी दस्तवेज बरामद किये गए है जिसमे पासपोर्ट, आधारकार्ड, पैनकार्ड समेत अन्य कई डॉक्यूमेंट शामिल है। पुलिस का कहना है की गिरोह के बाकी सदश्यो का पता लगया जा रहा है।

एक शहीद जवान के पत्नी का दर्द

सम्पादक : विशाल कुमार सिंह

भारत आईडिया से जुड़े :
अगर आपके पास कोई खबर हो तो हमें bharatidea2018@gmail.com पर भेजे या आप हमें व्हास्स्प भी कर सकते है 9591187384 .
आप भारत आईडिया की खबर youtube पर भी पा सकते है।
आप भारत आईडिया को फेसबुक पेज  पर भी फॉलो कर सकते है।
Reactions