फिर से हुआ हिन्दुओ के आस्था पर हमला तोड़ी गयी भगवन की मुर्तिया।

पढ़े योगी सरकार के राज्य उत्तरप्रदेश में कहाँ तोड़ी गयी भगवन हनुमान और लक्छ्मन जी की मुर्तिया ।


बैंगलोर :
कुछ अक्रान्ताओ की गिरी और मजहबी सोच के कारन इस समय देश के गयी राज्य जल रहे है। मुझे लगता है  इन अक्रान्ताओ को हिन्दुओ के वजूद से ही नफ़रत है जो ये आय दिन हिन्दुओ के धार्मिक त्यौहार को निशाना बनाते रहते है, ताकी देश  सांप्रदायिक बवाल हो ,  अराजकता फैले .....  निश्चित ये आक्रांता देश में पाकिस्तान जैसी स्थिति पैदा  करना चाहते है। इन अक्रान्ताओ ने हिन्दुओ के पावन त्यौहार श्री श्री रामनवमी के अवसर पर देश के कई हिशो में जैसे बंगाल ,राजस्थान ,बिहार तथा अन्य  राज्यों में हिन्दुओ पर हमले किये।  इसलिए क्यकि देशमे सांप्रदायिक स्थिति  बनी रहे और तो और बंगाल के आसनसोल में तो हिन्दुओ के पलायन की स्थिति इन अकारणताओंए  ने पैदा करदी। 

अब खबर पर आते है उत्तरप्रदेष  के अमरोहा इलाके में कुछ अक्रान्ताओ ने मंदिर में रखी दो मूर्तियों को खंडित कर आग लगादी , जिसकी जानकारी मिलते ही स्थानीय लोगो में आक्रोश फ़ैल गया , उनोहोने आरोपियों पर करवाई को लेकर जमकर हंगामा किया लेकिन बाद में पुलिस ने कैसे तैसे लोगो को समझा बुझा कर हालत को काबू में किया।  अमरोहा जनपद के सदर कोतवाली इलाके के मोहल्ला चौक में मछरटटा पुलिस चौकी के पास स्थित मंदिर में किसी अज्ञात सरती तत्वा ने मंदिर में भगवन हनुमान तथा लक्मन जी की मूर्तियों को तोड़ दिया और लगादी। 

साम्रदायिक हिंसा इस घटना के बाद न फैले इसीलिए पुलिस ने समये रहते ही स्थिति को नियंतरन में ले लिया , लेकिन पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियो को लोगो के गुसे का सामना करना परा। इस जगह के वार्ड पार्सद  अंकित गुप्ता का कहना है की अक्सर यहाँ से मंदिरो में मूर्तियों की चोरी होती रहती है।पुलिस के आला अदिकारियों ने स्थानीय लोगो को भरोषा दिलाया है की जल्द से जल्द अपराधियों को पकर लिया जायेगा। 

भारत आईडिया का इस खबर पर विचार : जो भी हुआ काफी दुखद है क्यकि किसी भी धर्म के आस्था को ठेश पहुँचाना निन्दनिये है , ये जो भी है हिन्दुओ कमजोर समझते है लेकिन ये भूले न हिन्दुओ ने जब जब तलवार उठाया है इतिहास के पन्ने बदल गए है। 

अगर आपको मेरा समाचार  पसन्द  आया हो तो भारत विज़न  के पेज को लाइक करना न भूले तथा हमें आप यूट्यूब पर भी सब्सक्राइब  करके समाचर पा सकते हो जो देश हित में कारीगर हो। 

Reactions