नमस्कार दोस्तों आप सबका स्वागत है भारत आइडिया के इस  नए संस्करण के समाचार लेख में। भारत आइडिया के पाठकों आज इस लेख में हम बात करेंगे बेशर्म आजम खान के बारे में जिसने फिर से अपनी गंदी जुबान से जया पर्दा के लिए अपशब्द इस्तेमाल किया है ।

समाचार पढ़ने से पहले एक गुजारिस है, हमारे फेसबुक पेज को  लाइक कर हमारे साथ जुड़े। 



आजम खान ने जयाप्रदा पर बिना नाम लिए निशाना साधा है और उनके कैरेक्टर पर उंगली उठाई है. आजम खान ने कहा कि ''हम बच्चे पढ़ा रहे हैं. हमने रं*** खाना नही खोला, न नाच घर खोला है.'' आजम खान बोले ''मैं रं*** शब्द का खास तौर पर इस्तेमाल कर रहा हूं. जान रहे हैं लोग ये लफ्ज कहां जाकर लग रहा है. समाज में इस लफ्ज़ को मोहतरम मान लिया जाएगा, तो समाज कैसे तरक्की करेगा और कैसे सर उठाकर चलेगा.'' यहां आपने देखा होगा कि हमने आजम खान द्वारा इस्तेमाल किए शब्दों का पूरी तरह से इस्तेमाल नहीं किया है, क्योंकि उन्होंने जिन शब्दों का इस्तेमाल किया है, उन शब्दों को भारत आइडिया के संपादक लिखने में भी असमर्थ है क्यूंकि ये बेशर्मी की वो सीमा है जिसे शायद ही कोई पार करना चाहेगा ।





अपने बयान में आजम खान ने आगे कहा कि ''अब शरीफों की इज्जत ऐसे लोग उतारेंगे. ऐसे लोग अपने आपको देवी देवता बतायेंगे. हमारे मरे हुए मां-बाप 3 दिन तक टेलेविजन पर डिस्कस किये जायेंगे. देखा आपने अंजाम क्या हुआ. कितना पैसा खर्च हुआ. कहते थे कि अगर आजम खान जीत गया तो नाक निकल जाएगी.

यहां हमने खुद कहते सुना है कि पूरी बीजपी हार जाती, लेकिन आजम खान नही जीतता. हम इतने बुरे हैं सिर्फ इस लिए की हम बच्चों को पढ़ाते है.''

आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे।