Engहिंदी

Get App

हम राजनीती एवं इतिहास का एक अभूतपूर्व मिश्रण हैं.हम अपने धर्म की ऐतिहासिक तर्क-वितर्क की परंपरा को परिपुष्ट रखना चाहते हैं.हम विविध क्षेत्रों,व्यवसायों,सोंच और विचारों से हो सकते हैं,किन्तु अपनी संस्कृति की रक्षा,प्रवर्तन एवं कृतार्थ हेतु हमारा लगन और उत्साह हमें एकजुट बनाये रखता है.हम आपके विचारों के प्रतिबिंब हैं,आपकी अभिव्यक्ति के स्वर हैं,हम आपको निमंत्रित करते हैं,अपने मंच 'BharatIdea' पर,सारे संसार तक अपना निनाद पहुंचायें.

भारतीय नोटों से महात्मा गांधी का फोटो हटाने की मांग, पढ़े रिपोर्ट ।




नमस्कार दोस्तों आप सबका स्वागत है भारत आइडिया के इस  नए संस्करण के समाचार लेख में। भारत आइडिया के पाठकों आज इस लेख में हम चर्चा करेंगे महात्मा गांधी के बारे में जिनकी नोटों पर से तस्वीर हटाने कि मांग तेज हो चली है ।

समाचार पढ़ने से पहले एक गुजारिस है, हमारे फेसबुक पेज को  लाइक कर हमारे साथ जुड़े। 



इन दिनों लगातार अपमान सहते महात्मा गाँधी (mahatma gandhi) की तस्वीर को भी अब नोट से हटाने की मांग अखिल भारत हिन्दू महासभा ने की है । अखिल भारत हिन्दू महासभा (akhil bharat hindu mahasabha ) ने विनायक दामोदर सावरकर (Vinayak Damodar Savarkar) को भारत रत्न से सम्मानित करने की मांग के साथ ही भारतीय नोटों से महात्मा गांधी (mahatma gandhi) का फोटो हटाकर वीर सावरकर (Vinayak Damodar Savarkar) का फोटो लगाने की पैरवी भी की है। हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पंडित अशोक शर्मा और प्रदेश प्रवक्ता अभिषेक अग्रवाल ने सावरकर को भारत रत्न देने की मांग उठाई। 

उन्होंने कहा कि सरकार की उनके प्रति सच्ची श्रद्धाजंलि यही होगी कि उन्हें भारत रत्न से सम्मानित करने के साथ ही भारतीय मुद्रा से महात्मा गांधी (mahatma gandhi) की तस्वीर हटाकर उनकी फोटो छापी जाए।




हिन्दू महासभा नेताओं ने कहा कि वीर सावरकर (Vinayak Damodar Savarkar) द्वारा की गई राष्ट्र के प्रति निस्वार्थ सेवा को झुठलाया नहीं जा सकता|विनायक दामोदर सावरकर को एक क्रांतिकारी, एक अच्छे वक्ता, विद्वान, लेखक, कवि, दर्शनशास्त्री और सामाजिक कार्यकर्ता के तौर पर भी जाना जाता है। 28 मई, 1883 को महाराष्ट्र के नासिक में जन्मे सावरकर ने छोटी उम्र में ही ‘मित्र मेला’ नाम का एक संगठन बनाया था, जिसका नाम आगे चलकर ‘अभिनव भारत’ कर दिया गया| यह संस्था भारत की स्वतंत्रता के लिए काम करती थी| उनके समर्थक उन्हें वीर सावरकर भी कहते हैं।


1937 में सावरकर (Vinayak Damodar Savarkar) को हिंदू महासभा (akhil bharat hindu mahasabha ) का अध्यक्ष चुना गया था| 5 फरवरी, 1948 को उन्हें महात्मा गांधी की हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया गया और सबूतों के अभाव में उन्हें रिहा कर दिया गया| गौरतलब है इन दिनों देश में महात्मा गाँधी के अपमान करने का चलन सा चल निकला है और हर को गाँधी पर ऊँगली उठा रहा है।




आपकी इस समाचार पर क्या राय है,  हमें निचे टिपण्णी के जरिये जरूर बताये और इस खबर को शेयर जरूर करे। 



Breaking News
Loading...
Scroll To Top