Engहिंदी

Get App

हम राजनीती एवं इतिहास का एक अभूतपूर्व मिश्रण हैं.हम अपने धर्म की ऐतिहासिक तर्क-वितर्क की परंपरा को परिपुष्ट रखना चाहते हैं.हम विविध क्षेत्रों,व्यवसायों,सोंच और विचारों से हो सकते हैं,किन्तु अपनी संस्कृति की रक्षा,प्रवर्तन एवं कृतार्थ हेतु हमारा लगन और उत्साह हमें एकजुट बनाये रखता है.हम आपके विचारों के प्रतिबिंब हैं,आपकी अभिव्यक्ति के स्वर हैं,हम आपको निमंत्रित करते हैं,अपने मंच 'BharatIdea' पर,सारे संसार तक अपना निनाद पहुंचायें.

जाने इस बार प्रधानमंत्री और नए सांसदों कि तनख्वाह कितनी होगी ?




क्या कभी आपने सोचा है कि देश के संवैधानिक पोस्ट पर रहने वाले लोगों का वेतन कितना होता है, अगर नहीं तो चलिए आज जानते हैं कि पीएम और सांसदों की सैलरी कितनी होती है...अगर हम प्रधानमंत्री की बात करे तो भारत के प्रधानमंत्री की सैलरी 1.60 लाख रुपये प्रतिमाह होती है, वेतन के अलावा पीएम को प्रतिदिन भत्ता भी मिलता है जो 2000 रुपये होता है, उस हिसाब से पीएम को 62,000 रुपये मिल जाते हैं, इसके अलावा उन्हें 45,000 रुपये का कांस्टीट्यूएंसी यानी चुनाव क्षेत्र भत्ता भी मिलता है।पीएम के रिटायर होने के बाद भी उन्हें 20,000 रुपये प्रतिमाह की पेंशन मिलती है और रहने के लिए दिल्ली में एक बंगला मिलता है, जिसमें उनके साथ पीए और एक चपरासी होता है।रिटायर होने के बाद भी प्रधानमंत्री को मुफ्त में रेल और हवाई यात्राओं का लाभ मिलता है, यही नहीं 6,000 रुपये प्रति वर्ष ऑफिस के खर्च के तौर पर दिए जाते हैं और एक साल के लिए SPG कवर भी दिया जाता है। 




देश के सभी सांसदों को 'द सैलरी, अलाउंस एंड पेंशन ऑफ मेंबर्स ऑफ पार्लियामेंट एक्ट' के तहत वेतन दिया जाता है, इसके तहत एक सांसद को 1,00,000 रुपये की बेसिक सैलरी और 45,000 रुपये का चुनाव भत्ता मिलता है। 




जबकि विधायकों को सैलरी भी एक लाख से ऊपर है, प्रदेश के हिसाब से विधायकों की सैलरी में अंतर देखने को मिलता है, विधायकों को सबसे ज्यादा सैलरी देने वाले राज्यों में तेलंगाना नंबर वन है, तेलंगाना में विधायकों की सैलरी 2.5 लाख रुपये प्रतिमाह है, उसके बाद दिल्ली का नंबर है जहां के विधायकों की सैलरी 2.1 लाख रुपये प्रतिमाह है।





Breaking News
Loading...
Scroll To Top