• ताज़ा खबर

    कल होंगे अभिनन्दन रिहा जाने आखिर कैसे उन्हें पाकिस्तानियो ने धोखे से पकड़ा था।



    विंग कमांडर अभिनंदन वर्थमान की बहादुरी के चर्चे हर ओर हैं. 27 फरवरी को पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में उनका मिग गिरने से पहले अभिनंदन ने जबरदस्त बहादुरी दिखाई. अभिनंदन मिग 21 उड़ाने के मास्टर माने जाते हैं. उनके साथियों के मुताबिक पाकिस्तान को जवाब देने का जिम्मा अभिनंदन को सौंपा गया था.


    क्या-क्या हुआ 27 फरवरी की सुबह?

    पाकिस्तान के साथ 27 फरवरी को सुबह-सुबह टकराव शुरू हुआ. टकराव जम्मू-कश्मीर के नौशेरा सेक्टर में हुआ. ये इलाका पाकिस्तान से सटी नियंत्रण रेखा के नजदीक है. मोर्चे पर तैनात उनके साथियों के हवाले से इकॉनमिक टाइम्स ने लिखा है कि टकराव कैसे शुरू हुआ. ईटी के मुताबिक पाकिस्तान एयर फोर्स के 10 एयरक्राफ्ट नियंत्रण रेखा के पास दिखाई दिए. उनकी हरकत ऐसी थी कि वे भारत के सैन्य ठिकानों की ओर बढ़ते नजर आए. इस पर भारत की ओर से जवाबी कार्रवाई का क्विक डिसीजन लिया गया. भारत की ओर से 2 मिग, 21 फाइटर जेट और सुखोई 30 लड़ाकू विमानों से लैस कॉम्बैट एयर लॉन्च किए गए. इनको निगरानी के लिए भेजा गया



    बताया जा रहा है कि मिग-21 लेकर गए अभिनंदन ने पाकिस्तान की ओर से घुसपैठ कर रहे एफ-16 विमान का पीछा किया. और पाकिस्तानी जेट एफ-16 पर एक कम दूरी की मिसाइल आर-73 दाग दी. इससे पाकिस्तानी विमान ध्वस्त हो गया. और वो जलता हुआ नीचे जा गिरा. इसी भिड़ंत के दौरान अभिनंदन का मिग-21 नियंत्रण रेखा पार कर गया. पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में भारतीय विमान दिखते ही पाकिस्तानी सेना ने भी हरकत दिखाई. नतीजा ये हुआ कि पाकिस्तानी सेना या एयर फोर्स की ओर से अभिनंदन के मिग-21 पर भी हमला किया गया. इसमें भारतीय मिग-21 तो गिरा ही, साथ ही अभिनंदन भी पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में पैराशूट से कूदते देखे गए.

    हमारे फेसबुक पेज को जरूर लाइक करे :