Engहिंदी

Get App

हम राजनीती एवं इतिहास का एक अभूतपूर्व मिश्रण हैं.हम अपने धर्म की ऐतिहासिक तर्क-वितर्क की परंपरा को परिपुष्ट रखना चाहते हैं.हम विविध क्षेत्रों,व्यवसायों,सोंच और विचारों से हो सकते हैं,किन्तु अपनी संस्कृति की रक्षा,प्रवर्तन एवं कृतार्थ हेतु हमारा लगन और उत्साह हमें एकजुट बनाये रखता है.हम आपके विचारों के प्रतिबिंब हैं,आपकी अभिव्यक्ति के स्वर हैं,हम आपको निमंत्रित करते हैं,अपने मंच 'BharatIdea' पर,सारे संसार तक अपना निनाद पहुंचायें.

बड़ी खबर हरियाणा के निकाय चुनाव में सभी शिटो पर भाजपा जीती .

नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका भारत आइडिया में तो दोस्तों आज हम आपको भारतीय जनता पार्टी के बारे में, हम आपको बताना चाहेंगे की बीते चुनाव में भाजपा की बहुत बुरी हार हुई लेकिन अभी चल रहे हरियाणा में निगम चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को एकतरफा जीत मिल रही है. तो आज हमारे  चर्चा का विषय भी यही रहेगा.


क्या है खबर :
जीहां दोस्तो आपने सही सुना हरियाणा में हुए निगम चुनावों में मतगणना जारी है और अभी तक के नतीजों पर नजर दौड़ाएं तो कांग्रेस को झटका लगता दिखाई दे रहा है.आपको बता दें कि भाजपा सभी पांच जिलों में मेयर के पद पर काबिज होती दिखाई दे रही है, विधानसभा का सेमीफाइनल माने जा रहे इन निकाय चुनाव के नतीजों पर सभी दलों की नजरें टिकी हुई हैं. चाहे किसी ने सिंबल पर चुनाव लड़ा हो या ना लड़ा हो लेकिन नतीजें सभी को भविष्य की एक तस्वीर जरूर दिखा रहे हैं.


14 वार्डो में जीती भाजपा :
पानीपत के 14 वार्डों में भाजपा के पार्षदों की जीत हुई है. वहीं  वार्ड नंबर 1 से बीजेपी के लिए अच्छी खबर आई है. बीजेपी की उम्मीदवार अनीता रानी 1541 वोटों से जीत गई हैं. वार्ड दो से पवन, तीन से अंजलि शर्मा, वार्ड 4 से रविन्द्र नागपाल, पांच से अनिल बजाज, छह से रवींद्र, सात से अशोक भाटिया, आठ से चंचल रेवड़ी सहगल, नौ से मीनाक्षी नारंग और दस से रवींद्र भाटिया, वार्ड 11 कोमल सैनी, वार्ड 12 से सतीश सैनी, वार्ड 17 से प्रमोद देवी, वार्ड 21 से संजीव दहिया जीत चुके हैं. इनके अलावा पानीपत वार्ड 22 से निर्दलीय उम्मीदवार भगवान दास डाबर ने जीत हासिल की है.


इस चुनाव जा असर आने वाले चुनाव में भी पड़ेगा  :
बता दें कि माना जा रहा है कि हरियाणा में हुए इन पांच नगर निगमों और दो नगरपालिकाओं के चुनाव नतीजों का प्रदेश की राजनीति पर काफी असर पड़ेगा. इससे राज्‍य में भविष्‍य की दिशा तय होगी. एक बात तो तय है कि जब तक नतीजे नहीं आ जाते तब तक उम्मीदवारों के साथ-साथ विभिन्न दलों के दिग्गज नेताओं की सांसें थमी रहेंगी.

Breaking News
Loading...
Scroll To Top