कठुआ और उन्नावो बलात्कार के बाद एक और युवती के साथ बलात्कार , इसके लिए कौन आवाज उठाएगा ?

क्या कठुआ और उन्नावो बलात्कार कांड एक राजनीती का हीशा बन गया है कठुआ कांड से पहले और बाद में भी काफी बलात्कार हुए लेकिन उनके लिए आवाज क्यों नहीं ??


बैंगलोर : 17 /०4 /2018 
शुरुआती सवाल कठुआ और उन्नाओ  मामले पर ?
आप सब को अभी पता है देश में कठुआ और उन्नाओ में हुए बलात्कार पर काफी चर्चा हो रही है , सहबहस हो रही है , महिला सुरछा की मांग की जा रही है जो की हमारे देश के लिए एक अच्छा संकेत है । लेकिन  मुझे एक बात समझ नहीं आ रही है की हर न्यूज़ चैनल ये क्यों दिखा रहा है की एक मुस्लिम लड़की का बलात्कार हुआ है , क्या एक बलात्कार को धर्म से जोर कर देखना सही है। हमारे देश में एक बेटी का बलात्कार हुआ है न की किसी मुस्लिम न किसी हिन्दू लड़की का और जिसने भी इसको अंजाम दिया है उसको कड़ी से कड़ी सजा हो इसके लिए  भारत आईडिया सरकार  से गुहार लगता है।लेकिन कठुआ और उन्नाओ के अलावा भी देश में कई जगह बलात्कार हो रहे है और वो भी हमारे देश की बेटिया  है जिसके लिए आवाज जरूर उठनी चाहिए। आपको जानकर हैरानी होगी कठुआ मामले के बाद भी और पहले भी हमारे देश भारत में अन्गिनत बलात्कार के मामले हुए , लेकिन उन बेटियों के लिए न तो किसी न्यूज़ चैनल्स ने , न तो बॉलीवुड सेलेब्रिटीज़  ने , न तो नेताओ ने और न तो बुद्धिजीवियों ने आवाज उठाई क्युकी वो बलात्कार धर्म से नहीं जुड़े हुए थे। 

नोएडा में युवती के साथ बलात्कार
मुझे आपलोगो को बताते हुए दुःख हो रहा है , की मेरठ की रहने वाली एक युवती के साथ यमुना एक्सप्रेस वे पर चलती कार में नोएडा से लेकर मथुरा तक गैंगरेप किया गया। ग्रेटर नॉएडा में जॉब करने वाली मेरठ की युवती जब शाम को अपने ऑफिस से निकली तो एक इलेक्ट्रॉनिक्स शॉप में काम करने वाले सलमान नाम के युवक ने मेरठ तक छोड़ने की बात कही तो थोड़ी जान पहचान होने के कारण युवती ने कार में बैठने के लिए मान गयी।  जिसके बाद युवक ने अपने दोस्त को फ़ोन करके पहले ही यमुना एक्सप्रेस वे पर बुला लिया था। जिसके बाद लड़की से रास्ते में मारपीट की गयी और उसके बाद उस युवती के  साथ सलमान और उसके दोस्त ने पुरे रास्ते जबरन  बलात्कार किया और जब  गाडी मथुरा के पास  पहुंची तो उस युवती को  अधमरी हालत में सड़क पर फेक दिया गया। लड़की ने पीड़ित अवस्था में ही 100 नंबर पर पुलिस को कॉल करके सूचना दी जिसके बाद अभी उस लड़की का इलाज चल रहा है। 



स्टार्स और नेताओ की प्रतिक्रिया 
एक बात तो माननी पड़ेगी हमारी बॉलीवुड में काफी एकता है जितनी और शायद किसी देश की फिल्म इंडस्ट्री में हो , जो की अच्छी बात है लेकिन ये एक्ता उसी  वक़्त क्यू आती है जब मामला धर्म से ज़ुरा हो। जिहाँ  हम बात कर रहे है उन बॉलीवुड सेलिब्रिटीज की जो हाथ में एक पोस्टर लेके सेल्फी के साथ सोशल मीडिया पर पोस्ट कर रहे है और कठुआ बलात्कार मामले में दोसियो की सजा की मांग कर रहे है जो की सही है लेकिन उसमे एक लाइन ऐसी भी है I AM HINDUSTANI AND I AM ASHAMED जिसका मतलब है मै  एक हिंदुस्तानी हु और मै  इसके लिए सर्मिन्दा हूँ।इसी लाइन की वजह से मुझे ये पोस्ट लिखना पर रहा है क्युकी ये सेलेब्रिटीज़ सिर्फ धर्म के मामलों पर अपनी  गन्दी राजनीति करने आ जाते है जिस से हमारे देश के टुकड़े हो सके।खबरों के मुताबित , एक अभिनेत्री ने तो यहाँ तक कह दिया की हिन्दू बलात्कारी होते है , वैसे भी इन सेलिब्रिटीज की तो कोई जात  होती नहीं इनको मतलब है सिर्फ पैसा फेको और तमाशा देखो सो ये ऐसा बोल  सकते है। अब बात करते है राज नेताओ के बारे में , नेताओ को तो बस अपनी कुर्शी से मतलब है जिसे वो पाने के लिए अपने बाप तक को बेच दे शायद इसलिए इन्होने तत्कालीन सरकार को बदनाम करने के लिए एक बलात्कार के मामले को धर्म की राजनीत बना दिया। राहुल गाँधी  जो की कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्छ है उन्होंने कठुआ बलात्कार पीड़िता के लिए कैंडल मार्च तक  निकाला लेकिन क्या राहुल गाँधी आगे ऐसे होने वाले मामलो पर अपनी ऐसी सहानभूति दिखाएंगे या ये सिर्फ तत्कालीन सरकार को  बदनाम करने और सत्ता की लोभ में किया गया एक ड्रामा था। 


भारत आईडिया के सवाल ?
एक सेलिब्रिटी ने  कठुआ रेप कांड के बाद तो यहां तक कह दिया था की हिन्दू बलात्कारी होते है क्या अब वो अभिनेत्री ऐसा कह सकती है।कहा हैं  वो अभिनेत्री जिसने इतनी गन्दी प्रतिक्रिया दी थी क्या उस अभिनेत्री के दिल में मेरठ की उस पीड़िता के लिए दर्द नहीं है , क्या मेरठ की उस युवती की चीख उस अभिनेत्री को नहीं नहीं सुनाई दे रही है जो की चीख चीख कर अपना इंसाफ मांग रही है। कहाँ है राहुल गाँधी जिनसे मेरठ की युवती की चीखे  पूछ रही है की आप कब निकलोगे मेरे लिए इंडिया गेट तक कैंडल मार्च कब मांगोगे मेरे लिए इंसाफ ?? कहाँ है वो नेता , अभिनेता और बुद्धिजीवी जिन्होंने हिंदुस्तान को रहने योग्य तक नहीं  बोल दिया था।  कहाँ है वो न्यूज़ चैनल्स क्या अब न्यूज़ चैनल्स ने भी धर्म की राजनीती सुरु कर दी है। अगर मेरठ की रहने वाली युवती का बलात्कार सलमान की जगह किसी संजय ने किया होता तो अबतक ये समाचार हैडलाइन बन चुकी होती। 


भारत आईडिया की गुजारिश 
भारत आईडिया हिन्दुस्थान के हर एक व्यक्ति से गुजारिश करता है चाहे वो किसी मजहब या धर्म का हो ,  किसी बलात्कार को धर्म से ना जोड़े क्युकी हमारे देश की एक बेटी का बलात्कार हुआ है न की किसी हिन्दू या मुसलामन का।और हाँ ये सेलिब्रिटीज और राजनेता खुद की रोटी सेकने के लिए हिन्दुओ को और तत्कालीन सरकार को तोरने के लिए कठुआ बलात्कार को धर्म से जोर रहे जिससे देह में सांप्रदायिक स्थिति बानी रहे।  

हमसे जुड़े...... 
अगर आपको मेरा समाचार  पसन्द  आया हो तो भारत विज़न  के पेज को लाइक करना न भूले तथा हमें आप यूट्यूब पर भी सब्सक्राइब करके समाचर पा सकते हो जो देश हित में कारीगर हो। विशाल कुमार सिंह    
Reactions